अपने व्यवसाय के विकास का प्रबंधन कैसे करें?

व्यापार वृद्धि

आपने हाल ही में अपना व्यवसाय बनाया है और बहुत तेज़ी से आपके विकास के उद्देश्य काफी हद तक पार हो गए हैं। विरोधाभास जैसा कि यह प्रतीत हो सकता है, एक व्यवसाय नेता को अपनी गतिविधि में तेजी से वृद्धि का सामना करना पड़ा, खुद को प्रबंधित करने के लिए एक बहुत ही मुश्किल समस्या से मिल सकता है।

सफलता की अचानकता कभी-कभी कंपनी के पतन का कारण भी बन सकती है यदि मोड़ को अच्छी तरह से बातचीत नहीं की जाती है या सही ढंग से अनुमान नहीं लगाया जा सकता है। अक्सर सामने आई मुख्य कठिनाई सफलतापूर्वक निवेश और नकदी प्रवाह की जरूरतों को पूरा कर रही है। यहां नियंत्रण में रहने की कुछ चाबियां हैं।

Savoir faire le bon diagnostic

La stratégie d’entreprise ne doit pas uniquement consister à mettre en place des plans marketings ou des campagnes destinées à promouvoir les produits. Si ces actions sont indispensables au démarrage de l’activité, puis de manière récurrente tout au long de la vie d’une entreprise, il faut savoir également anticiper le succès pour répondre rapidement à la transformation qui devra alors obligatoirement intervenir.

Dès que le carnet de commande commence à exploser il faut se poser un certain nombre de questions basiques et en premier lieu déterminer si la croissance est temporaire, à savoir conjoncturelle, ou si elle va durer en impliquant un certain nombre de changements importants.

L’une des premières questions à se poser consiste également à savoir si l’on détient le capital nécessaire pour acheter rapidement du stock, et dans le même ordre d’idées, si la trésorerie sera suffisante à plus ou moins long terme. Ce point impliquera d’ailleurs de devoir se pencher sur les délais d’encaissements.

Il faut surtout se demander si la croissance va générer des profits ou si au contraire l’augmentation du chiffre d’affaires ne risque pas de se traduire par une baisse de la rentabilité et donc des bénéfices. L’analyse doit enfin porter sur les ressources humaines et les besoins de main d’œuvre qualifiée avec en corolaire la problématique d’un management efficient.

Une fois ce premier diagnostic effectué, il convient de trouver rapidement les réponses adéquates.

प्रत्येक समस्या का उत्तर है

Comme pour l’analyse d’un bilan, le diagnostic de croissance ne peut pas se limiter à une étude morcelée de chaque poste. Gérer la croissance avec succès implique une vision globale mais avec des réponses pointues pour chaque problématique.

वेबसाइट पर पहुंचें अल्तासुरा फिर आपको प्रत्येक बैलेंस शीट आइटम के लिए सही वित्तपोषण समाधान खोजने की अनुमति देगा।

सबसे पहले, अपने नकदी प्रवाह की जरूरत का पूर्वानुमान नकदी प्रवाह और बहिर्वाह के पूर्वानुमान की तुलना करके। यदि परिणाम अल्पावधि में "नकदी" के अपर्याप्त स्तर की ओर जाता है, तो उद्यमी को फैक्टरिंग या ऑर्डर फाइनेंसिंग जैसे वित्तपोषण समाधानों के साथ जल्दी प्रतिक्रिया करनी होगी।

La politique d’encaissement devra aussi être revue en mettant en œuvre parfois des conditions de paiement différentes et claires tout en surveillant les délais de paiement. Des décisions seront souvent à prendre envers les mauvais payeurs comme celle de bloquer leur compte en refusant toute nouvelle commande tant que les impayés ne sont pas apurés.

Savoir gérer sa croissance c’est donc trouver le bon financement au juste moment avec le partenaire adapté.

0 replies on “Comment gérer la croissance de son entreprise ?”